fusebulbs.com
hindi poem fusebulbs.com

लकड़हारिन |

तवा तटस्थ है चूल्हा उदास
पटरियों पर बिखर गया है भात
कूड़ादान में रोती है रोटी
भूख नोचती है आँत
पेट ताक रहा है गैर का पैर |

खैर जनतंत्र के जंगल में
एक लड़की बिन रही है लकड़ी |
जहाँ अक्सर भूखे होते हैं
हिंसक और खूँखार जानवर
यहाँ तक कि राष्ट्रीय पशु बाघ भी |

हवा तेज चलती है
पत्तियाँ गिरती हैं नीचे
जिसमें छुपे होते हैं साँप बिच्छू गोजर |
जरा सी खड़खड़ाहट से काँप जाती है रूह
हाथ से जब जब उठाती है वह लड़की लकड़ी
मैं डर जाता हूँ |

यह भी पढ़ें:-राजनैतिक उठापटक

इस लेख के भीतर व्यक्त की गई राय लेखक की व्यक्तिगत राय है और इस लेख का उद्देश्य किसी की भावना को ठेस पहुंचाना नहीं है।

By Golendra Patel

कवि : गोलेन्द्र पटेल (काशी हिंदू विश्वविद्यालय का छात्र)

Leave a Reply

Your email address will not be published.