हिंदी कविता

हमने ही तो प्रेम धरा में
क्रोध का बांध बनाया है|
छोड़ एकता की बंधन को
भेदभाव अपनाया है||

हमने ही पावन धरती में
नफरत का बीज बोया है|
स्वार्थ लोभ की ज्वाला में
आपनो को ही खोया है||

धर्म जात का पाठ सभी को
हमने ही सिखलाया है|
हमने ही तो राम रहीम को
आपस में लड़वाया है||

स्वेत चन्द्रमा की ललाट पे
क्या खन्डित धरती रोयेगी|
या प्रेम वृछ की छाया में
पुलकित होकर सोयेगी||

क्या इन्द्रधनुष सी धरती में
और रंग सजायेंगे|
या क्रोध-ईर्ष्या की
ज्वाला में नफरत को सुलगाएँगे||

क्या आर्यव्रत की धरती को
टुकड़ों में बटवाएंगे|
या वीर तिरंगे की मिट्टी में
प्रेम का बीज लगाएंगे||

यह भी पढ़ें:-नया सवेरा

By ANISH SINGH

IT Analyst at Tata Consultancy Services. Follow @aniluvall

5 thoughts on “संघबद्वता-हिंदी कविता”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *